Children & Youth As Partners In Mission / मिशन में बच्चे और युवा साझेदार के रूप में

150.00

Add to Wishlist
Categories: , ,

Description

संक्षिप्त विवरण:

बच्चों एवं युवा न केवल सभी लोगों के समूह में सबसे अधिक सुसमाचार ग्रहण करने वाले होते हैं। बल्कि वे मिशन के सबसे प्रभावकारी प्रतिनिधि भी होते है। प्रमाण इस बात की पुष्टि करते है कि वे 21वीं सदी के मिशन की प्राथमिक ऊर्जा के रूप में बढते जाएंगे।

4/14 के मिशन सम्मेलन में जो कि सियोल कोरिया मे फरवरी 2013 में हुआ जो संसार भर से कई मिशन अगुवों एवं धर्म- शास्त्रियों को साथ ले आया कि वे बच्चों एवं युवा के मिशन में साझेदार के रूप में उनके स्थान एवं भूमिका पर चिन्तन करें।

शोध पत्रें के इस सम्मिश्रण की प्रस्तुति 4/14 विन्डो मिशन सम्मेलन में बच्चे एवं युवा के महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डालती है कि वे सुसमाचार प्रचार एवं मिशन में जो उनके पास है और जो वह कर सकते हैं। इसमें उन तरीकों का जिक्र किया गया है जिसके द्वारा मिशन अगुवें बच्चों एवं युवाओं को स्वेच्छा एवं कार्य-नीतियों से उन तक पहुंचना, उन्हें स्थिर करना एवं उन्हें अपने समुदायों एंव देशों तक पहुंचने के लिए निर्मुक्त करने में निवेश कर सकें।

कलीसिया इस समय “एक नये काइरोस समय” का सामना कर रही है। उसके पास नवीनीकरण हुए मिशन के दर्शन को अपनाने का अवसर है जो कि मजबूती से वचन पर आधारित है लेकिन वह बच्चों एवं युवाओं के उत्साह एवं उमंग से आती है।

यही इस पुस्तक का प्रमुख संदेश है जिसमे सहयोगियों ने वचन की बुद्धि, बच्चों एवं युवाओं के अनुभव उनके स्वयं के अनुभव कलीसिया के इतिहास और समाजिक विज्ञान से ज्ञान समेटा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Additional information

Author Name

, ,

Binding Type

No. of Pages

256

Publisher

Year Current Edition

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.